Hamarivani.com

लोक-रंग

 जाड़ा सतावे निगोड़ा ,रजइया  गरमाई दे बलमा,जुलमी ये सीत-लहरिया, कँपै थर-थर देही ,सुरज ना नेकऊ झाँके ,हवा जौन बरफ़ छुईलागे चलाय रही चक्कू , कइस बच पाई बलमा !* जूड़ी चढ़ी ,अंग-अंग में ,ठँडावै कंबल चदरा ओढ़ूँ  दुतइया जतन से लगे ओढ़ेन  बदरासेजिया छू दाँती बाजै ,सेंक पहुँचई दे बलम...
लोक-रंग...
Tag :
  February 2, 2012, 7:40 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163691)