Hamarivani.com

हक और बातिल

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); पैग़म्बर की शहादत के बाद तीन दिन तक उनका जनाज़ा रखा रहा और मुसलमान सक़ीफ़ा नबी साएदा में अबूबक्र की ख़िलाफ़त में व्यस्त रहे, और यह केवल अली और उनके कुछ साथी ही थे जिन्होंने पैग़म्बर को दफ़्न किया।आपके दफ़्न के बाद कुछ लोग हज़रते ज़हरा के पास आए और आप...
हक और बातिल...
Tag :ahlubayt
  August 28, 2017, 9:19 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); अमीरुल मोमिनीन हज़रत अली (अ.) को मानने वालों, आपको पैग़म्बर के दूसरे सहाबा से श्रेष्ठ स्वीकार करने और आपसे प्यार करने वाले मुसलमानों को शिया कहे जाने का इतिहास बहुत पुराना है इसका सम्बंध पैग़म्बरे इस्लाम स. के ज़माने से है। शिया व सुन्नी मुहद्देसीन ...
हक और बातिल...
Tag :
  August 28, 2017, 9:09 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); शिया समुदाय के राजनीतिक और समाजिक इतिहास का पहला चरण रसूले इस्लाम स.अ. के देहांत से शुरू होकर अमीरुल मोमिनीन हज़रत अली (अ.ह) की शहादत तक जारी रहा। इस चरण के शुरू से ही इमामत व ख़िलाफ़त का मुद्दा इस्लामी दुनिया के महत्वपूर्ण राजनीतिक और धार्मिक मुद्दो...
हक और बातिल...
Tag :itihaas
  August 28, 2017, 9:07 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सन 60 हिजरी में मुआविया की मौत के बाद उसका बेटा यज़ीद जिसे ख़ुद मुआविया ने अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था और लोगों से उसकी बैअत भी ली थी, इस्लामी दुनिया का शासक बन बैठा। उसने मदीना वासियों ख़ास कर कुछ बड़ी हस्तियों, विद्वानों व बुद्धिजीवियों से बै...
हक और बातिल...
Tag :मक्के से कर्बला
  August 28, 2017, 8:55 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इमाम हुसैन (अ) की हिजरत:वलीद ने इमाम हुसैन (अ) को संदेसा भेजा कि वह दरबार में आयें उनके लिए यज़ीद का एक ज़रूरी पैग़ाम है। इमाम हुसैन (अ) उस समय अब्दुल्लाह बिन ज़ुबैर के साथ मस्जिद-ए-नबवी में बेठे थे।जब यह सन्देश आया तो इमाम से इब्ने ज़ुबैर ने कहा कि इस समय ...
हक और बातिल...
Tag :मक्के से कर्बला
  August 28, 2017, 7:28 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); यज़ीद के दरबार में हज़रत ज़ैनब का ऐतिहासिक ख़ुत्बायज़ीद के दरबार में जब हज़रत ज़ैनब (स) की निगाह अपने भाई हुसैन के ख़ून से रंगे सर पर पड़ी तो उन्होंने दुख भरी आवाज़ में जो दिलों की दहला रही थी पुकाराःहे हुसैन, हे रसूलुल्लाह (स) के चहीते, हे मक्का और मिल...
हक और बातिल...
Tag :safar
  August 28, 2017, 7:27 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); अमीर मुआविया ने अपने क़बीले बनी उमय्या का शासन स्थापित करने के साथ साथ उस इस्लामी शासन प्रणाली को भी समाप्त कर दिया जिसमें ख़लीफ़ा एक आम आदमी के जैसी ज़िन्दगी बिताता था। मुआविया ने ख़िलाफ़त को राज शाही में तब्दील कर दिया और अपने कुकर्मी और दुराचार...
हक और बातिल...
Tag :मक्के से कर्बला
  August 28, 2017, 7:27 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); मुसलमानों का मानना है कि हर युग और हर दौर मैं अल्लाह ने इस धरती पर अपने दूत(संदेशवाहक/पैग़म्बर), अपने सन्देश के साथ इस उद्देश्य के लिए भेजे हैं कि अल्लाह के यह दूत इंसानों को सही रास्ता दिखायें और इंसान को बुरे रास्ते पर चलने से रोकें. इन्हीं संदेशवाह...
हक और बातिल...
Tag :karbala
  August 28, 2017, 7:26 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); यह दो रक्'अत नमाज़ है जिसकी हर रक्'अत में एक मर्तबा सुराः हम्द और बारह (12) मर्तबा सुरह तौहीद पढ़ें - नमाज़ के बाद हज़रात (अ:स) की यह दुआ पढ़ेंअल्लाहुम्मा सल्ले अला मोहम्मदीन व आले मोहम्मद बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम इलाही खशा-अतिल अस्वातु लका व ज़ल्लातिल...
हक और बातिल...
Tag :ahlubayt
  August 27, 2017, 6:49 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नमाज़ के महत्व के बारे मे केवल यही काफ़ी है कि हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने मिस्र मे अपने प्रतिनिधि मुहम्मद इब्ने अबी बकर के लिए लिखा कि लोगों के साथ नमाज़ को समय पर पढ़ना।क्योंकि तुम्हारे दूसरे तमाम कार्य तुम्हारी नमाज़ के आधार हैं। रिवायत मे यह भी है ...
हक और बातिल...
Tag :नमाज़
  August 27, 2017, 6:44 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); और महिलाओं का मेहर उन्हें उपहार स्वरूप और इच्छा से दो यदि उन्होंने अपनी इच्छा से उसमें से कोई चीज़ तुम्हें दे दी तो उसे तुम आनंद से खा सकते हो। (4:4) सूरए निसा पारिवारिक आदेशों और विषयों से आरंभ होता है। सभी जातियों व राष्ट्रों के बीच परिवार के गठन के ...
हक और बातिल...
Tag :quran
  August 24, 2017, 3:44 pm
सूरए बक़रह की आयत नंबर २२८ इस प्रकार है।और तलाक़ पाने वाली स्त्रियां तीन बार मासिक धर्म आने तक स्वयं को प्रतीक्षा मे रखें और यदि वे ईश्वर तथा प्रलय पर ईमान रखती हें तो उनके लिए वैघ नहीं है कि वे (किसी और से विवाह करने के लिए) जिस वस्तु की ईश्वर ने उनके गर्भाशयों में सृष्ट...
हक और बातिल...
Tag :editorial
  August 23, 2017, 3:46 pm
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इमाम रज़ा अ.स. को शहीद करने के बाद मामून चाहता था कि किसी तरह से इमाम तक़ी अ.स. पर भी नज़र रखे और इस काम के लिये उसने अपनी बेटी उम्मे फ़ज़्ल का निकाह इमाम तक़ी  से करना चाहा।इस बात पर तमाम अब्बासी मामून पर ऐतेराज़ करने लगे और कहने लगे कि अब जबकि अ़ली इब्ने मूसा ...
हक और बातिल...
Tag :Education
  August 22, 2017, 11:45 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इमाम मोहम्मद तक़ी अलैहिस्सलाम पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम के वंश से थे और उन्होंने अपनी छोटी सी आयु में ज्ञान और परिज्ञान के मूल्यवान ख़ज़ाने छोड़े हैं। वह इमाम जिसकी दया व दान के सागर से सबने लाभ उठाये हैं और अत्यधिक दानी हो...
हक और बातिल...
Tag :ahlulbayt
  August 22, 2017, 11:39 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वृद्धावस्था भी मनुष्य के जीवन की परिपूर्णता का एक चरण है और इसमें एवं जवानी में अंतर यह है कि बाल्यकाल और जवानी इंसान के अंदर ऊर्जा से समृद्ध होती है परंतु वृद्धावस्था में ऊर्जा कम हो चुकी होती है और दिन- प्रतिदिन कम ही होती जाती है। बाल्याकाल और जवा...
हक और बातिल...
Tag :society
  August 18, 2017, 8:13 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); आज तो ज़मीन जायदाद वक़्फ़  करने  से डर लगता है की कहीं आने वाले वक़्त में यह अपनी ही क़ौम में आपसी दुश्मनी की वजह ना बन जाय |  पहले जिनके पास जायदाद ज़्यादा  थी वो अपनी ज़मीन वक़्फ़ कर दिया करते थे जिस से वो क़ौम के काम आये और महफूज़ भी रहे क्यों की यह वक़्फ़ इमाम ...
हक और बातिल...
Tag :
  July 22, 2017, 3:13 pm
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); एक दिन हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम अपनी थकान उतारने के लिए लेटे तो आपने एक पत्थर अपने सर के नीचे रख लिया और आराम करने लगे।इतने में उधर से शैतान निकल पड़ा उसने जब यह देखा तो कहाः अन्तः आप भी दुनिया की तरफ़ झुक गए।हज़रत ईसा ने जैसे ही उसकी यह बात सुनी सर के नीच...
हक और बातिल...
Tag :
  July 22, 2017, 8:30 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नमाज़, रोज़ा, हज, और जेहाद की भांति अम्र बिलमारूफ को भी धार्मिक आदेशों में समझा जाता है और उनके मध्य इसे विशेष स्थान प्राप्त है। हज़रत अली अलैहिस्सलाम के अनुसार अम्र बिलमारूफ और नही अनिलमुन्कर का दायेरा विस्तृत है और इसमें सांस्कृतिक, सामाजिक, आर्थ...
हक और बातिल...
Tag :social
  July 13, 2017, 9:34 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); मोअल्लाह बिन ख़ुनैस इमाम सादिक़ (अ) से रिवायत करते हैं कि मैं ने इमाम से पूछा कि एक मुसलमान का दूसरे मुसलमान पर क्या हक़ है? आपने फ़रमायाः (एक मुसलमान पर दूसरे मुसलमान के) सात वाजिब हक़ हैं कि अगर उनमें से किसी एक को भी छोड़ दिया जाए तो वह हमारी विलायत से...
हक और बातिल...
Tag :social
  July 13, 2017, 9:22 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); यह बात अत्यंत आवश्यक है कि पति-पत्नी, अच्छी समझ-बूझ के लिए संयुक्त जीवन से बाहर एक दूसरे की बातों और रहस्यों को बयान न करें क्योंकि जीवन साथी की बातें दूसरों से बयान करने के बड़े नकारात्मक परिणाम सामने आते हैं।राज़ या रहस्य का अर्थ होता है वह बात जो द...
हक और बातिल...
Tag :
  July 12, 2017, 7:28 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); समस्याओं से छुटकारे के लिए इमाम ज़माना (अ) से रिवायत, आज़माई  हुई दुआअनुवादकः सैय्यद ताजदार हुसैन ज़ैदीकिताब अलकरेमुल तय्यब में लेखक लिखते हैः मैने एक सम्मानित और विश्वासयोग्य सैय्यद का लिखा दिखा है जिसमें लिखा थाः मैंने 1093 हि0 क़0 को रजब के महीने ...
हक और बातिल...
Tag :
  July 8, 2017, 11:01 pm
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); हज़रत फ़ातेमा (स) से रिवायत बुखार से बचने की दुआ(एक विस्तिरित हदीस में हज़रत सलमान फ़ारसी से इस प्रकार रिवायत हुई है)हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) ने सलमान फ़ारसी से फ़रमायाः हे सलमान मेरे पिता के देहांत के बाद तुमने मुझपर ज़ुल्म किया (तुम हमारी ज़ियारत को ...
हक और बातिल...
Tag :dua amaal
  July 8, 2017, 10:54 pm
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सलाम हो ख़लक़े ख़ुदा में चुने रोज़गार नबी आदम (अ:स) परसलाम हो अल्लाह के वली और इस के नेक बन्दे शीस (अ:स) परसलाम हो ख़ुदा के दलीलों के मज़हर इदरीस (अ:स) परसलाम हो सलाम हो नूह (अ:स) पर अल्लाह ने जिन की दुआ क़बूल कीज़ियारते नाहिया हिन्दी अनुवादसलाम हो हूद (अ:स) पर ...
हक और बातिल...
Tag :
  June 30, 2017, 1:23 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बरज़ख़आयाते क़ुरआन और अहादीस मासूमीन (अ) से मालूम होता है कि मौत इंसान की नाबूदी का नाम नही है बल्कि मौत के बाद इंसान की रूह बाक़ी रहती है। अगर आमाल नेक हों तो वह रूह आराम व सुकून और नेमतों के साथ रहती है और अगर आमाल बुरे हों तो क़यामत तक अज़ाब में मुब्त...
हक और बातिल...
Tag :
  June 30, 2017, 1:19 am
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); रजब महीने की पहली शबे जुमा (गुरुवार की रात) को लैलतुर रग़ाएब कहा जाता है यानी आर्ज़ूओं और कामनाओं की रात ...इस महान रात के कुछ ख़ास आमाल हैं, हमारी अगर कोई इच्छा कोई दुआ है और हम चाहते हैं कि अपनी कोई आरज़ू को पूरा कराएं तो हमको इस रात में ईश्वर की बारगाह म...
हक और बातिल...
Tag :rajab
  June 30, 2017, 1:13 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3694) कुल पोस्ट (169775)