Hamarivani.com

अमन का पैग़ाम

हमने काश्मीर की सुन्दरता देखी तारों सितारों भरी सुंदर रात देखी लेकिन आज वो देखने चला जो मैंने कभी नहीं देखा केवल धर्म की किताबों में  पढ़ा और कहानियों में सुना है | आज पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस बात पे शोध करने में लगे हैं की हम इंसानों जैसे या हमसे मिलते जुलते लोग अन्...
अमन का पैग़ाम...
Tag :जिन्न
  February 11, 2015, 7:55 am
डॉ पवन विजय अपने भतीजे के साथ मेरे घर पे |मेरे घर पे डॉ पवन विजय और मैं |मेरे घर का एक हिस्सा और डॉ पवन विजय डॉ पवन विजय खालिस मुखलिस मस्जिद देखते हुए डॉ पवन विजय के साथ पंचों शिवाला के दर्शन डॉ पवन विजय सदर इमामबाडा जौनपुर में इमाम हुसैन (अ.स)  को श्रन्धांजलि पेश करते हुए ड...
अमन का पैग़ाम...
Tag :संपादकीय
  January 9, 2015, 10:13 am
गंगा-जमुनी तहजीब का शहर काशी हिंदुओं और मुस्लिमों की भावनाओं को हमेशा जोड़ने का काम करता है। यहां के आपसी भाईचारे और सांप्रदायिक सौहार्द की देश-विदेश में मिसाल दी जाती है। यहां के सर्वधर्म सद्भाव की सदियों पुरानी परंपरा को अब नाजनीन अंसारी मजबूती देने का काम कर रही...
अमन का पैग़ाम...
Tag :featured
  December 6, 2014, 9:33 pm
कल किताबों में एक १५० साल पुरानी अनामी डायरी मिली जिसके लेखक ने बखूबी एक ऐसे शख्स की डायरी के कुछ पन्नो का ज़िक्र किया जो अपने दिल की बात किसी से कह ना सका | एक शख्स ऐसा था जिसने अपने जीवन में बहुत सी ऊँचाइयाँ ,इज्ज़त और शोहरत देखी की अचानक कुछ कारणवश उसका सब कुछ खो गया | उसने ...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  September 30, 2014, 2:29 pm
प्रकृति से प्रेम और घुमक्कड़  स्वभाव अक्सर मुझे शहरों और गाँव के ऐसे इलाके में ले जाता है जहां सिर्फ कुदरत का करिश्मा नज़र आया करता है | फूलों के बगीचे हों और सुबह का वक़्त तो ऐसा लगता है की आप जन्नत में खड़े हैं | लगभग तीन चार महीने पहले मैं लखनऊ के बाहरी इलाके में गुलाबों क...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  August 22, 2014, 10:20 am
जी हाँ यह भाई बहन का रिश्ता भी अजीब होता है ,भाई कैसा भी हो बहन को प्यारा लगता है |यह रिश्ता न धर्म देखता है न रंग देखता है बस देखता है तो आपस में एक दुसरे का आपसी प्यार | भारतवर्ष में यह त्यौहार धर्म की सीमाओं तो तोड़ता हुआ अब हर भाई बहन के प्रेम का प्रतीक बन चुका है जिसे हर धर...
अमन का पैग़ाम...
Tag :featured
  August 9, 2014, 7:42 pm
आज अचानक याद आ गए गाँव के पुराने दिन जहां एक ख़बरी लाल हुआ करते थे | इनका नाम तो कुछ और था लेकिन इन्हें लोग ख़बरी लाल पुकारा करते थे | यह पढ़े लिखे कम थे और कोई काम इनके पास नहीं था लेकिन पत्नी धनवान थी और इनकी गाड़ी बड़े प्रेम से दौड़ रही थी | इनका काम पत्नी सेवा और फिर मोहल्ले ,गा...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  August 9, 2014, 2:30 am
ये अशोक का पेड़ है जिसकी उम्र ५० साल तो अवश्य है क्यूँ की मैं जब ५ साल का था तो इस पेड़ को हवा से हिलते देख रात में डर जाता था | इस पेड़ का और मेरा साथ १९ साल तक रहा और ना जाने कितनी यादें इस से जुड़ गयीं.| कभी डरा तो कभी इस पेड़ पे चढ़ना सीखा तो कभी इस्पे अपना नाम लिखना तो कभी इसके फल को ...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  August 4, 2014, 2:26 am
जब भी शादी की बात चलती है तो सबसे पहली शर्त होती है लड़की कुंवारी हो या वर्जिन हो | महिलाओं की वर्जिनिटी को मूल्यों और संस्कारों से भी जोड़कर देखा जाता रहा है। लोग अक्सर यह भी कहते पाए गए हैं की सेक्स की हुयी औरत एक दागदार फल की तरह है जिसे कोई मजबूरी में तो ले सकता है लेकि...
अमन का पैग़ाम...
Tag :mahila jagat
  July 4, 2014, 6:45 am
घुमक्कड़ मिज़ाज पता नहीं कहाँ कहाँ ले जाता है | बस ऐसे ही घुमते हुए मेरे हाथ में कैमरा देख एक बच्चा सामने आ गया बोला मेरी फोटो क्यूँ नहीं खींचते ?बच्चा इतनी मासूमियत से बोला की मैंने उसकी तस्वीर खींच ली | फ़ौरन बच्चा बोला दूध पिलावें का चाचा  | इसे कहते हैं हिन्दुस्तान के ...
अमन का पैग़ाम...
Tag :society
  June 24, 2014, 3:42 pm
"मानसिक शोषण "शरीफ जालिमो का मनपसंद हथियार है इसलिए इस बारे में खबरें तो बहुत छपती है लेकिन इसके खिलाफ आवाजें बहुत कम उठती हैं | इसके खिलाफ आवाज़ उठाना और हर संस्था और घरों में यह तय करना की कहीं किसी का मानसिक शोषण तो नहीं किया जा रहा आज आवश्यक होता जा रहा है क्यूंकि इसके...
अमन का पैग़ाम...
Tag :
  June 23, 2014, 11:17 pm
अयातुल्लाह सीस्तानी  अभी तक लोग सुनते रहे हैं कि आतंकवादी बेगुनाहों की जान लेने को जिहाद  बताते हैं और लोगों गुमराह करके नरसंहार करवाया  करते हैं | हकीकत में यह इस्लाम नहीं लेकिन कैसे समझाया  जाए लोगों को जब दुनिया को दिख यही रहा है | कुछ गिनती के आतंकवादी ऐसा कर...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  June 17, 2014, 1:01 am
अयातुल्लाह सीस्तानी  अभी तक लोग सुनते रहे हैं कि आतंकवादी बेगुनाहों की जान लेने को जिहाद  बताते हैं और लोगों गुमराह करके नरसंहार करवाया  करते हैं | हकीकत में यह इस्लाम नहीं लेकिन कैसे समझाया  जाए लोगों को जब दुनिया को दिख यही रहा है | कुछ गिनती के आतंकवादी ऐसा कर...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  June 17, 2014, 1:01 am
आज कल शादियों में जाइये तो एक चर्चा बहुत आम हुआ करती है भाई सोने के १२ सेट दिए और कार की चाभी सलाम कराई में मिल गयी | जी हाँ य उस धर्म के मानने वालों का हाल है जहां दहेज़ प्रथा का कोई वजूद नहीं है | बल्कि दहेज़ लड़का देता है या कह लेकिन की शादी के पहले लड़के को ही उसके लिए घर, और दुस...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  June 8, 2014, 10:18 am
इंसान को उन मुहब्बतों की कद्र कम हुआ करती है जो उन्हें मिलती रहती है इसलिए यदि माँ की मुहब्बत किसी कहते हैं वो हम जैसे उन लोगों से पूछिए जिनकी माँ अब दुनिया में नहीं रही | हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम के ज़माने में दो औरतें अपने कुछ माह के बच्चों को साथ लिए जंगल से गुज़र रही थ...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  June 6, 2014, 10:35 am
आज अन्यास ही अटलबिहारी बाजपेयी जी की याद आ गयी | अटल बिहारी बाजपेयी मेरी नज़र में एक सर्वगुण संपन्न व्यक्तित्व के मालिक थे जिन्होंने अपनी प्रतिभा का लोहा एक बार नहीं बार बार दुनिया को मनवाया | अटल बिहारी का जन्म 25 दिसम्बर, 1924 को ग्वालियर में हुआ था| कहते हैं ना कि ...
अमन का पैग़ाम...
Tag :संपादकीय
  May 9, 2014, 1:31 am
आज हिंदी ब्लॉगजगत के बहुत से ब्लॉगर फेस बुक पे ही अपने स्टेटस अपडेट किया करते  है क्यूँ बड़े बड़े लेख लिखने और फिर उनपे लोगो की प्रतिक्रिया की तुलना में यह आसान हुआ करता है | कुछ वाक्य किसी विषय पे लिख दिए और २५-५० कमेन्ट ७०-१०० like दना दान आया जाते हैं | वहाँ कमेन्ट करना और न...
अमन का पैग़ाम...
Tag :blogger
  May 8, 2014, 8:56 am
आज हिंदी ब्लॉगजगत के बहुत से ब्लॉगर फेस बुक पे ही अपने स्टेटस अपडेट किया करते  है क्यूँ बड़े बड़े लेख लिखने और फिर उनपे लोगो की प्रतिक्रिया की तुलना में यह आसान हुआ करता है | कुछ वाक्य किसी विषय पे लिख दिए और २५-५० कमेन्ट ७०-१०० like दना दान आया जाते हैं | वहाँ कमेन्ट करना और न...
अमन का पैग़ाम...
Tag :blogger
  May 8, 2014, 8:56 am
जन्म के पहले से ही यह कशमकश लोगों में शुरू हो जाती है की लड़का होगा या लड़की ? लकड़ा होने पे लड्डू बंटते और लड़की होने पे मुरझाया चेहरा अक्सर देखने में हम सभी को अपने आस पास मिल जाया करता है |  भ्रूण हत्या तो आज एक बड़ी समस्या बनती जा रही है |  अधिकतर मामलों में लड़की का जन्म होत...
अमन का पैग़ाम...
Tag :mahila jagat
  May 6, 2014, 1:40 pm
Original Firoz Shakir Photo by His Grand daugheter Marziya.Youngest Photographer at only 5 years old. मैं किसी व्यक्ति विशेष के बार में कम ही लिखा करता हूँ लेकिन कुछ हस्तियाँ ऐसी हुआ करती हैं जिनसे आप एक बार मिल लें तो बार बार मिलने का जी चाहता है | ऐसी ही एक हस्ती हैं हमारे मित्र फोटोग्राफर ,ब्लॉगर, कवी , ख्याति प्राप्त और फिल्म जगत...
अमन का पैग़ाम...
Tag :talents
  April 21, 2014, 1:03 am
Original Firoz Shakir Photo by His Grand daugheter Marziya.Youngest Photographer at only 5 years old. मैं किसी व्यक्ति विशेष के बार में कम ही लिखा करता हूँ लेकिन कुछ हस्तियाँ ऐसी हुआ करती हैं जिनसे आप एक बार मिल लें तो बार बार मिलने का जी चाहता है | ऐसी ही एक हस्ती हैं हमारे मित्र फोटोग्राफर ,ब्लॉगर, कवि , ख्याति प्राप्त  फिल्म जगत ...
अमन का पैग़ाम...
Tag :talents
  April 21, 2014, 1:03 am
मुसलमानों पे यह इलज़ाम हमेशा से लगाया जाता रहा है  की मुसलमान मोदी से गुजरात के दंगो के कारण नफरत करता है जबकि यह सत्य नहीं है |यह सत्य है की गुजरात के दंगे इंसानियत के नाम पे एक बड़ा धब्बा थे ठीक वैसे ही जैसे अन्य दंगे हुआ करते हैं लेकिन जाहिलों की फ़ौज ने गुजरात में मुसलम...
अमन का पैग़ाम...
Tag :featured
  April 15, 2014, 9:04 am
बलात्कार पे बहुत कुछ लिखा जाता रहा है लेकिन इस बिमारी से छुटकारा कैसे पाया जाये इस विषय पे लोग कम लिखते हैं और इस विषय पे राजनीति अधिक हुआ करती है | बलात्कार एक मानसिक रोग है और इस रोग का शिकार किसी भी उम्र का व्यक्ति हो सकता है और ऐसा नहीं की महिलाएं बलात्कार नहीं करती ले...
अमन का पैग़ाम...
Tag :mahila jagat
  April 13, 2014, 12:05 am
हम सब के प्रिय भारत के लोकप्रिय हास्य कवी गीतकार और मंच संचालक श्री अलबेला खत्री जी नहीं रहे ! इतनी कम उम्र मे उनका अचानक चले जाना उनके परिवार समेत उनके सभी चाहने वालों के लिये बहुत बड़ा आघात है| शोक संतप्त परिवार को इस असहय कष्ट को सहने की क्षमता दे| अमन का पैग़ाम की तरफ से...
अमन का पैग़ाम...
Tag :Editorial
  April 8, 2014, 10:29 pm
चुनावों के करीब आते ही अचानक से बाबरी मस्जिद का मुद्दा गरमा गया और वही सुनी सुनाई  पुरानी कहानियां  नए लिफ़ाफ़े पे सुनी और सुनाई जाने लगी |बाबरी पुलाव और गुजरात के दंगों की बिरयानी यह नेता सालों से खिला खिला के वोट ले रहे हैं और हिन्दू मुस्लमान को  आपस में लडवा...
अमन का पैग़ाम...
Tag :society
  April 6, 2014, 12:34 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165887)