feedji.com
हमारीवाणी ने बनाई नए युग की #BloggerCommunity जहाँ आप ना केवल आसानी से ब्लॉग लिख सकते हैं, अपनी ब्लॉग-पोस्ट शेयर कर सकते हैं, विषय आधारित चर्चा कर सकते हैं, बल्कि नए युग से कदमताल करते हुए सोशल मिडिया से जुडी अनेक सुविधाओं का प्रयोग कर सकते हैं.

1
View
My ImageAuthor PAWAN KUMAR
Poverty Discourse--------------------------Today is Sunday – Time about 7:30 PM. I am in front bedroom sitting on bed in blanket. This is winter season & it is very cold outside. Since last few days after falling snow in Himachal and J&K, Delhi has become quite cold. I was reading in morning newspaper that 44 persons have died out of cold. Truly the rigor of any weather – winter, summer or rains falls more on the poor people which is very gloomy & killing. They are not in a position to protect them full. Many people live on footpaths & in shanties simply because they are poor, and cannot afford dignified living because they earn very low wages or are unemployed, and are u... Read more
Tag :Free Thinking
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 7:35 pm
1
View
My ImageAuthor shikha kaushik
प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा पिछले कार्यकाल में ओ डी एफ जैसी महात्वाकांक्षी योजना चलायी गयी, बड़े बड़े दावे किए गए कि ये योजना महिलाओं के सम्मान के लिए उठाया गया एक बहुत बड़ा कदम है और इसी साल ये घोषणा की गई है कि पूरा उत्तर प्रदेश ओ डी एफ घोषित किया जाता है जबकि सच्चाई क... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 5:56 pm
1
View
My ImageAuthor shalini kaushik
प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा पिछले कार्यकाल में ओ डी एफ जैसी महात्वाकांक्षी योजना चलायी गयी, बड़े बड़े दावे किए गए कि ये योजना महिलाओं के सम्मान के लिए उठाया गया एक बहुत बड़ा कदम है और इसी साल ये घोषणा की गई है कि पूरा उत्तर प्रदेश ओ डी एफ घोषित किया जाता है जबकि सच्चाई क... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 5:39 pm
2
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
तुलसी सूर-कबीर की, परम्परा है सुप्त।कविता के आकाश से, सन्त हो गये लुप्त।।--कविताओं का नाम है, लेकिन हैं आलेख।छन्द बन्द ताबूत में, ठुकी हुई गुलमेख।।--कविताओं का अब नहीं, रहा पुराना ढंग।छन्दबद्ध रचनाओं पर, लगा हुआ है जंग।।--बदल गयी है सभ्यता, बदल गया है काल।परिवर्तन के ... Read more
Tag :सन्त हो गये लुप्त
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 4:00 pm
3
View
My ImageAuthor रेखा श्रीवास्तव
ब्लॉगिंग के 11 वर्ष !                                     वह साल 2008 का था जब मेरा ब्लॉगिंग से परिचय हुआ था और वहीँ से दिशा मिली थी खुद को अपनी मर्जी से प्रकाशित करने की सुविधा।  इसमें ये कोई चिंता नहीं थी कि कोई पढ़ेगा या नहीं फिर भी धीरे धीरे लोग पढ़ने लगे और उस ... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 3:04 pm
3
View
My ImageAuthor K.D.Sharma
प्रत्येक वर्ष 21 सितंबर को विश्व शांति दिवस मनाया जाता है. यह दिवस संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित एक अंतर्राष्ट्रीय दिवस है जिसका उद्देश्य विश्व में झगड़ों और विवादों की समाप्ति तथा शांति व्यवस्था कायम करना है. क्या है विश्व शांति दिवस विश्व शांति दिवस-2019 उन सभी लोगो... Read more
Tag :
1
View
My ImageAuthor देवेन्द्र पाण्डेय
पहले सुबह होती थी, शाम होती थी, अब लोहे के घर में, पूरी रात होती है। वे दिन, रोज वाले थे। ये रातें, साप्ताहिक हैं। बनारस से जौनपुर की तुलना में, बनारस से लखनऊ की दूरी लंबी है। रोज आना जाना सम्भव नहीं है। ये रास्ते सुबह/शाम नहीं, पूरी रात निगल जाते हैं और उफ्फ तक नहीं करते!लखनऊ ... Read more
Tag :संस्मरण
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 11:29 am
2
View
My ImageAuthor प्रमोद जोशी
जम्मू कश्मीर में पाबंदियों को लगे 47-48 दिन हो गए हैं और लगता नहीं कि निर्बाध आवागमन और इंटरनेट जैसी संचार सुविधाएं जल्द वापस होंगी। सरकार पहले दिन से दावा कर रही है कि हालात सामान्य हैं, और विरोधी भी पहले ही दिन से कह रहे हैं कि सामान्य नहीं हैं। उनकी माँग है कि सारे प्रति... Read more
Tag :राष्ट्रीय सहारा हस्तक्षेप
Blogs
Follow me
September 21, 2019, 11:04 am
1
View
My ImageAuthor akhtar khan akela
﴾ 231﴿ और यदि स्त्रियों को (एक या दो)तलाक़ दे दो और उनकी निर्धारित अवधि (इद्दत)पूरी होने लगे, तो नियमानुसार उन्हें रोक लो अथवा नियमानुसार विदा कर दो। उन्हें हानि पहुँचाने के लिए न रोको, ताकि उनपर अत्याचार करो और जो कोई ऐसा करेगा, वह स्वयं अपने ऊपर अत्याचार करेगा तथा अल्लाह ... Read more
Tag :
1
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
स्नेहिल अभिवादन    शनिवार की चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है|   देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक |    - अनीता सैनी  ------ ग़ज़ल 503 Service Unavailable

Service Unavailable

The server is temporarily unable to service your request due to maintenance downtime or capacity problems. Please try again later.

Additionally, a 503 Service Unavailable error was encountered while trying to use an ErrorDocument to handle the request.