feedji.com
हमारीवाणी ने बनाई नए युग की #BloggerCommunity जहाँ आप ना केवल आसानी से ब्लॉग लिख सकते हैं, अपनी ब्लॉग-पोस्ट शेयर कर सकते हैं, विषय आधारित चर्चा कर सकते हैं, बल्कि नए युग से कदमताल करते हुए सोशल मिडिया से जुडी अनेक सुविधाओं का प्रयोग कर सकते हैं.

0
View
My ImageAuthor डॉ. जेन्नी शबनम
बात इतनी सी है ******* चले थे साथ बात इतनी सी है   जिए पर तन्हा बात इतनी सी है।   वे मसरूफ़ रहते तो बात न थी   मग़रूर हुए बात इतनी सी है।   मुफ़लिसी के दिन थे पर कपट न की   ग़ैरतमंद हूँ बात इतनी सी है।   झूठे भ्रम में जीया जीवन मैंने   कोई न अपना बात इतनी सी है।&nbs... Read more
Tag :तुकबन्दी
0
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 मित्रों!बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।--देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।--गीत "आज हा-हा कार सा है"  कल्पनाएँ डर गयी हैं,भावनाएँ मर गयीं हैं,देख कर परिवेश ऐसा।हो गया क्यों देश ऐसा?? --पक्षियों का चह-चहाना ,लग रहा चीत्कार सा है।षट्पदों का गीत गाना ,आज हा-हा कार सा ह... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
January 20, 2021, 12:01 am
0
View
My ImageAuthor Niranjan
(Never born, never died. Visited this planet between 11.12.1931- 19.01.1990)Today is the death anniversary of Osho! On this day, 19th January, he left his body some 31 years ago! I feel very much emotional when I talk about him. I mean how to describe him, how to tell who he was! It makes me just speechless. But still making an attempt to write something.Osho..... I met him in July 2012. It is said that when a disciple is ready, Guru suddenly appears. It was all of a sudden! Before that also, I had heard a thing or two about him, read some lines here and there. But then proper encounter took place. So much of it that life got divided- before July 2012 and after July 2012. I.e. Before Osho an... Read more
Tag :ओशो पुण्यतिथि
Blogs
Follow me
January 19, 2021, 11:11 pm
2
View
0
View
My ImageAuthor Sweta sinha
धरती की गहराई कोमौसम की चतुराई कोभांप लेती है नन्ही चिड़ियाआगत की परछाई को।तरू की हस्त रेखाओं कीसरिता की रेतील बाहों कीबाँच लेती है पाती चिड़ियाबादल और हवाओं की।कानन की सीली गंध लिएतितली-सी स्वप्निल पंख लिएनाप लेती है दुनिया चिड़ियामिसरी कलरव गुलकंद  लिए।सृष्टि मे... Read more
Tag :प्रकृति कविता
Blogs
Follow me
January 19, 2021, 7:49 pm
1
View
My ImageAuthor प्रमोद जोशी
संसद भवन परिसर की कैंटीन में अब सांसदों को सब्सिडी वाला खाना नहीं मिलेगा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने मंगलवार को कहा कि संसद की कैंटीन में सांसदों को भोजन पर दी जाने वाली सब्सिडी खत्म की जा रही है।लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने बताया कि सांसदों और अन्य लोगों को खाने पर म... Read more
Tag :सब्सिडी
Blogs
Follow me
January 19, 2021, 6:34 pm
0
View
My ImageAuthor Anita nihalani
बस इतना सा ही सरमायागीत अनकहे, उश्ना उर की बस इतना सा ही सरमाया ! काँधे पर जीवन हल रखकर धरती पर जब कदम बढाये कुछ शब्दों के बीज गिराकर  उपवन गीतों से महकाए ! प्रीत अदेखी, याद उसी की बस इतना सा ही सरमाया ! कदमों से धरती जब नापीअंतरिक्ष में जा पहुँचा मन कुछ तारों के हार पिरोय... Read more
Tag :गीत
View
My ImageAuthor Kavita Rawat
जब मनुष्य सीखना बन्द कर देता है तभी वह बूढ़ा होने लगता है बुढ़ापा मनुष्य के चेहरे पर उतनी झुरियाँ नहीं जितनी उसके मन पर डाल देता है अनुभव से बुद्धिमत्ता और कष्ट से अनुभव प्राप्त होता है बुद्धिमान दूसरों की लेकिन मूर्ख अपनी हानि से सीखता है जिसे सहन करना कठिन था उसे याद कर बड़ा सुख मिलता है सुख दुर्लभ है इसीलिए उसे पाकर बड़ा आनन्द आ... Read more
Tag :Social
Blogs
Follow me
January 19, 2021, 11:16 am
5
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--कल्पनाएँ डर गयी हैं,भावनाएँ मर गयीं हैं,देख कर परिवेश ऐसा।हो गया क्यों देश ऐसा?? --पक्षियों का चह-चहाना ,लग रहा चीत्कार सा है।षट्पदों का गीत गाना ,आज हा-हा कार सा है।गीत उर में रो रहे हैं,शब्द सारे सो रहे हैं,देख कर परिवेश ऐसा।हो गया क्यों देश ऐसा?? --एकता की गन्... Read more
Tag :गीत
Blogs
Follow me
January 19, 2021, 10:22 am
[Prev Page] [Next Page]