feedji.com
हमारीवाणी ने बनाई नए युग की #BloggerCommunity जहाँ आप ना केवल आसानी से ब्लॉग लिख सकते हैं, अपनी ब्लॉग-पोस्ट शेयर कर सकते हैं, विषय आधारित चर्चा कर सकते हैं, बल्कि नए युग से कदमताल करते हुए सोशल मिडिया से जुडी अनेक सुविधाओं का प्रयोग कर सकते हैं.

0
View
My ImageAuthor akhtar khan akela
बहन अपनी हो या दूसरे की ,,कोई भी महिला हो ,सभी की इज़्ज़त ,अस्मत , ,सुरक्षा ,संरक्षण , ,कल्याण व्यवस्थाओं की हम शपथ ले ,, , शपथ ले भी और इस शपथ को क्रियांवित भी करे , अपनी जीवन शैली में अंगीकार ,स्वीकार करें ,, आपकी पत्नी भी किसी की बहन है ,,आपकी बहन भी किसी की पत्नी है ,,बेटियां है ,सभी ... Read more
Tag :
1
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--जिसकी माटी में चहका हुआ है सुमन,मुझको प्राणों से प्यारा वो अपना वतन।जिसकी घाटी में महका हुआ है पवन,मुझको प्राणों से प्यारा वो अपना वतन।--जिसके उत्तर में अविचल हिमालय खड़ा,और दक्षिण में फैला है सागर बड़ा.नीर से सींचती गंगा-यमुना चमन।मुझको प्राणों से प्यारा वो अपना वतन... Read more
Tag :यह धरा देवताओं की जननी रही
Blogs
Follow me
August 4, 2020, 7:21 am
0
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
जिस पल का सदियों से इन्तजार था,वो पल बस आने ही वाला है।इस अवसर परसभी श्रद्धालु घर पर दीप जलायें।आज समूची अयोध्या ही नहीं अपितु रामलला के भव्य मंदिर निर्माण के उल्लास में डूबी नजर आ रही है। घर-घर में तैयारी और उल्लास का माहौल है। भूमिपूजन शुरू हो चुका है। सड़कों-गलियों स... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
August 4, 2020, 12:01 am
6
View
My ImageAuthor rozkiroti
प्रोत्साहन... Read more
Tag :General
0
View
My ImageAuthor Aryaman Chetas Pandey
श्रीरामाष्टकम्संस्कृतम् | मालिनीछन्दःकरधृतशरचापं मानवानामतुल्यंहरणसकलपापं नीलकान्तिं सुवेशम्।जनकसुतनयायाः हृत्तले शोभमानंसुरनरभजनीयं रामचन्द्रं नमामि॥१॥अमलकमलनेत्रं दण्डकारण्यपुण्यंदशरथगृहसौख्यं वानराधीशमित्रम्।सगुणमवनिपालं वेदविज्ञानमूलंजनमण... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
August 3, 2020, 7:08 pm
6
View
My ImageAuthor पुंज प्रकाश
"अपने सपने का पीछा करो, आगे बढ़ो, और पीछे मुड़कर न देखो." - शकुंतला देवीप्रदर्शनकारी कलाओं में सबसे प्राथमिक स्थान नाटक का है, (अब नहीं भी हो तो भी ऐसा कहने का रिवाज है) जिस पर विमर्श करते हुए अमूमन दृश्य-श्रव्य काव्य की बात तो होती है, साथ ही मनोविनोद कहीं न कहीं से आ ही जाता है ... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
August 3, 2020, 6:52 pm
7
View
My ImageAuthor Krishna Kumar Yadav
रक्षाबंधन पर्व पर किसी भाई की कलाई सूनी न रहे, इसके लिए डाक विभाग ने रविवार को भी राखी डाक के वितरण के लिए विशेष प्रबंध किए। लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के अधीन लखनऊ, फैज़ाबाद, रायबरेली, बाराबंकी, सीतापुर, अम्बेडकरनगर जनपदों में डाकियों ने  रविवार को लोगों के घर राखी डाक प... Read more
Tag :GPO
6
View
My ImageAuthor कुमारेन्द्र सिंह सेंगर
एलिम्को में नियमित रूप से जाना हो रहा था. चलने का अभ्यास पहले की तुलना में कुछ बेहतर होने लगा था. अब कृत्रिम पैर को बाँधने में पहले जैसी उलझन नहीं होती थी. कृत्रिम पैर पहनने के पहले बाँयी जाँघ पर पाउडर लगाया जाता, उसके ऊपर एक कपड़े की पट्टी पहननी होती थी उसके बाद कृत्रिम पै... Read more
Tag :आत्मकथा
6
View
My ImageAuthor Anita nihalani
जो शेष रहा अपना होगा वह बनकर बदली बरस रहा  फिर चातक उर क्यों तरस रहा,  ले जाये कोई बाँह थाम गर उन चरणों का परस रहा ! जो लक्ष्य गढ़े थे विलीन हुए  अब पत्तों सा ही उड़ना हो,  जब डोर बंधी हो जीवन से  फिर और कहाँ अब जुड़ना हो ! बिखरेगा हिम टुकड़ों सा मन  कल कल निनाद कर बह जाए, जो शे