feedji.com
हमारीवाणी ने बनाई नए युग की #BloggerCommunity जहाँ आप ना केवल आसानी से ब्लॉग लिख सकते हैं, अपनी ब्लॉग-पोस्ट शेयर कर सकते हैं, विषय आधारित चर्चा कर सकते हैं, बल्कि नए युग से कदमताल करते हुए सोशल मिडिया से जुडी अनेक सुविधाओं का प्रयोग कर सकते हैं.

1
View
My ImageAuthor Krishna Kumar Yadav
राष्ट्रीय डाक सप्ताह का अंतिम दिन गुरुवार को मेल दिवस के रूप में मनाया गया। इस अवसर पर क्षेत्रीय कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाकघर का प्राथमिक कार्य मेल का संग्रह, प्रसंस्करण, प्रसारण और वितरण रहा है। डाक सेवाओं... Read more
Tag :KK Yadav speaks
0
View
My ImageAuthor Rajesh Tripathi
 कृष्ण की कटी उंगली में बांधा था साड़ी का पल्लारक्षाबंधन हिंदुओं का महान पर्व है जिसमें भाई की कलाई में बहन राखी बांधती है और भाई उसकी रक्षा का वचन देता है। यों तो रक्षाबंधन की प्रथा के प्रारंभ होने के बारे में ऐतिहासिक और धार्मिक कई आख्यान हैं लेकिन सर्वाधिक प्रच... Read more
Tag :
2
View
My ImageAuthor Shive Mishra
शरद पूर्णिमा वाले दिन लोग चांदनी रात में खीर बनाकर क्यों रखते हैं?... Read more
Tag :General
2
View
4
View
My ImageAuthor प्रमोद जोशी
भारत और अमेरिका के बीच रक्षा से जुड़े निम्नलिखित समझौते हुए हैं। इनमें GSOMIA, LEMOAऔर COMCASAके बाद BECAचौथा सबसे महत्वपूर्ण समझौता है।सैनिक गतिविधियाँ बारहों महीने और चौबीसों घंटे चलती हैं। सारी दुनिया सो जाए, पर सेना कहीं न कहीं जागती रहती है। बेका उसी जागते रहने का समझौता है। ज... Read more
Tag :बेका
Blogs
Follow me
October 28, 2020, 4:36 pm
5
View
My ImageAuthor akhtar khan akela
 काँटा सा जो चुभा था वो लौ दे गया है क्याघुलता हुआ लहू में ये ख़ुर्शीद सा है क्यापलकों के बीच सारे उजाले सिमट गएसाया न साथ दे ये वही मरहला है क्यामैं आँधियों के पास तलाश-ए-सबा में हूँतुम मुझ से पूछते हो मिरा हौसला है क्यासागर हूँ और मौज के हर दाएरे में हूँसाहिल पे कोई नक... Read more
Tag :
4
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
नौका में छल-छद्म की, मतलब के सब मीत। कृष्ण-सुदामा सी नहीं, आज नहीं है प्रीत।।--मिलते हैं संसार में, भाँति-भाँति के लोग।होती तब ही मित्रता, जब बनता संयोग।।--कर्मों के अनुसार ही, मिलता सबको भोग।खुद के बस में है नहीं, विरह और संयोग।।--नहीं सरल है सीखना, जीवन का संगीत।शब्दों क... Read more
Tag :दोहा
Blogs
Follow me
October 28, 2020, 7:26 am
5
View
My ImageAuthor Pratibha Saksenas
 (पिछली पोस्ट 'व्यामोह'के तारतम्य में -) मनस्विनी रत्ना ,जिस सुहाग पर मायके में इठलाती थी,उसकी विलक्षण विद्वत्ता-वाग्मिता,का दम भरती थी उसके कथा-वाचन के अर्थ-गांभीर्य पर गर्व करती थी, आदर्शवाद पर फूलती थी,जिसे मान्य-पुरुष मान कर निश्चिंत थी आज वही  सारी मर्यादायें त... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
October 28, 2020, 6:13 am
6
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 मित्रों!बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।--आज की पोस्ट में ये पंक्तियाँ समीचीन हैं..नभ से बादल छँट गये, निर्मल हुए पहाड़।अपने-अपन भवन को, लोग रहे हैं झाड़।।--बारिश से जो हो गयीं, दीवारें बदरंग।उन पर अब पुतने लगे, फिर से नूतन रंग।।--गीत  "... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
October 28, 2020, 12:01 am
[Prev Page] [Next Page]